खरपतवार प्रबंधन

            लगातार सिंचाई और उर्वरकों का उपयोग करने से प्याज की फसल और खरपतवार के बीच प्रतिस्पर्धा होती है। पानी, मिट्टी के पोषक तत्व, प्रकाश और जगह के लिए खरपतवार प्याज की फसल के साथ प्रतिस्पर्धा करते हैं। कम ऊंचाई, गैर शाखाओं, विरल पत्ते और उथली जड प्रणाली जैसे जन्मजात चरित्र और प्रारंभिक विकास चरणों में धीमी गति से विकास के कारण प्याज की फसल अन्य फसलों की तुलना में खरपतवार से अधिक संवेदनशीलता दर्शाती है। उच्च विपणन योग्य प्याज उपज प्राप्त करने के लिए प्रारंभिक विकास चरणों में खरपतवार नियंत्रण आवश्यक है। मजदूरों की दुर्लभता के कारण कृषि पद्धतियों के तरीकों के साथ खरपतवार का रासायनिक नियंत्रण अनिवार्य है। कुशल खरपतवार नियंत्रण के लिए ऑक्सिफ्लोरोफेन 23.5% इसी (1.5 -2.0 मि.लि./ली.) / पेंडीमिथालीन 30% इसी (3.5-4.0 मि.लि./ली.) का इस्तेमाल रोपाई से पहले या रोपाई के समय करना चाहिए और फिर रोपाई के 40-60 दिनों के बाद एक बार हाथ से निराई की आवश्यकता होती है।