श्रेणीकरण
            प्याज के कन्दों को तीन श्रेणियों यानी(>80 मि.मी.), (50-80 मि.मी.) और(30-50 मि.मी.) में आकार के आधार पर वर्गीकृत करना चाहिएभारत में प्याज का श्रेणीकरण सामान्यतः भंडारण से पहले या विपणन से पहले हाथों से किया जाता हैयह एक कष्टकर प्रक्रिया है और इसके लिए कई मजदूरों की आवश्यकता होती है। यंत्र से श्रेणीकरण करने से श्रम शुल्क कम होता है और अचूकता भी बढ़ती है। भा.कृ.अनु.प.-प्या..अनु.नि. ने प्याज के श्रेणीकरण के लिए हा से और मोटर से चलने वाला श्रेणीकरण यंत्र, विकसित किए हैं (चित्र )प्याज को श्रेणीकरण यंत्र के द्वारा आकार के आधार पर पांच श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है। हस्त चालित श्रेणीकरण यंत्र की क्षमता हाथ से श्रेणीकरण की तुलना में पांच गुना अधिक है, जबकि मोटर चालित श्रेणीकरण यंत्र की क्षमता लगभग 20 गुना अधिक हैप्याज की श्रेणीकरण की अचूकता, श्रेणीकरण यंत्र के साथ 90% है जबकि हस्त चालित श्रेणीकरण यंत्र के साथ 70% के आसपास है

 

 

मोटर चालित श्रेणीकरण यंत्र

हस्त चालित श्रेणीकरण यंत्र